School Kholne Ya Renovation Ke Liye Loan Kaise Le – स्कूल खोलने या रिनोवेशन के लिए लोन कैसे लें?

0
School Kholne Ya Renovation Ke Liye Loan Kaise Le

बहुत से लोगों का सपना होता है की वे अपनी तरफ से पढ़ाई के क्षेत्र में कुछ कर सके। बहुत से लोग बच्चों के लिए और देश की प्रगति के लिए स्कूल खोलना चाहते हैं। किंतु धनराशि की कमी के कारण वे पीछे हट जाते हैं। क्योंकि आज के जमाने में कुछ भी हो उसके लिए पैसों की जरूरत तो पड़ती ही पड़ती है। बहुत से लोग अपने रिटायरमेंट के बाद देश की उन्नति के लिए देश के उद्धार के लिए और नए आने वाली पीढ़ी के लिए स्कूल खोलना चाहते हैं, पर उनकी सालों की कमाई भी कम पड़ जाती है ।

लेकिन इसके लिए अब उन्हें ज्यादा सोचना नहीं पड़ेगा वह चाहे तो लोन का सहारा भी ले सकते हैं ।स्कूल खोलने के लिए बहुत आसानी से बैंक और प्राइवेट एजेंसी से लोन लिया जा सकता है । और दोस्तों हम आपको बता दें केवल स्कूल खोलने के लिए ही नहीं स्कूल की मरम्मत के लिए भी लोन लिया जा सकता है। स्कूल की मरम्मत का मतलब है कि स्कूल आगे बढ़ रहा है और उसमें विकास हो रहा है। नए समय के अनुसार पुरानी बिल्डिंग को मरम्मत की जरूरत पड़ती है और नए जमाने के साथ नए साधनों का होना भी बहुत जरूरी हो जाता है, ताकि बच्चे नए जमाने की चीजों को अपनाकर और अच्छे से लिख पढ़ सके और आगे बढ़ सके।

कहीं ना कहीं स्कूल की मरम्मत बहुत जरूरी है समय के साथ-साथ और स्कूल में नए साधनों नई टेक्नोलॉजी का होना भी बहुत जरूरी है। तभी हमारे बच्चे आगे बढ़ पाएंगे । पर यह सब इतना आसान नहीं है इन सब चीजों के लिए पैसों की जरूरत पड़ती है। स्कूल में सुधार का मतलब यह है कि स्कूल उन्नति की ओर प्रगति की ओर और नए  जमाने के साथ साथ बढ़ रहा है । पर स्कूल खोलना हो या स्कूल की मरम्मत और स्कूल में सुधार ही क्यों ना हो सबके लिए पैसों की जरूरत पड़ती है। पैसों के बिना कोई भी काम असंभव सा हो गया है, और जरूरी नहीं कि स्कूल खोलने या स्कूल चलाने वाले के पास उचित राशि हो । इसके लिए वह आसान से लोन ले सकते हैं, बिना परेशान हुए। आजकल लोन लेना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है। अपने जरूरी काम के लिए एक उचित मात्रा में लोन लिया जा सकता है और उन्हें धीरे-धीरे आराम से किस्तों में चुकाया जा सकता है।

ऐसे ही स्कूल के लिए भी बैंक और नॉन बैंकिंग एजेंसी से लोन ले सकते हैं ।अब, यह लोन लेना कैसे हैं यह हम आपको बताएंगे। हम आपको स्कूल खोलने और स्कूल के सुधार के लिए लोन कैसे लिया जाता है इसकी संपूर्ण प्रक्रिया इस पोस्ट में आगे बताने वाले हैं। लेकिन उसके लिए आपको हमारी पोस्ट को अंत तक पढ़ना होगा ताकि आपको संपूर्ण जानकारी मिल सके और आप हमारे पोस्ट को पढ़कर सही निर्णय ले सके। तो चलिए दोस्तों आगे बढ़ते हैं संपूर्ण जानकारी की ओर–

स्कूल खोलने और स्कूल के सुधार के लिए कहां कहां से लोन लिया जा सकता है ?

दोस्तों पैसों के मामले में संपूर्ण जानकारी होना बहुत जरूरी होता है, क्योंकि आखिर में पैसे चुकाने आपको ही है। स्कूल खोलने के लिए कहां से लोन लिया जाए यह पता होना बहुत जरूरी है। ताकि आप सही जगह से लोन लेकर आसानी से अपना स्कूल खोल सकते हैं, या फिर उसकी मरम्मत और सुधार कार्य करवा सकते हैं। स्कूल खोलने या स्कूल की सुधार के लिए आप दो जगह से लोन ले सकते हैं। पहली जगह है बैंक और दूसरी जगह है प्राइवेट कंपनियां । बैंक से लोन लेने पर आपको कम ब्याज चुकाना पड़ेगा क्योंकि बैंक का ब्याज दर कम है। लेकिन आप को बैंक से लोन मिलने में थोड़ा समय अधिक लगेगा और प्राइवेट कंपनी से लोन लेने पर आपको थोड़ा अधिक ब्याज चुकाना पड़ेगा क्योंकि प्राइवेट कंपनी का ब्याज दर बैंक के ब्याज दर से अधिक होता है। लेकिन इसका एक फायदा यह है कि यहां लोन देने में ज्यादा समय नहीं लगाती, आपको ये काफी जल्दी समय में आपके दस्तावेज और आपका परिचय वेरीफाई कर के आपके बैंक खाते में लोन ट्रांसफर कर देती है। तो अब आपको लोन कहां से लेना है यह आपका निर्णय है।

स्कूल खोलने के लिए लोन लेने पर क्या फायदे प्राप्त होते हैं?

  • स्कूल खोलने के लिए लोन लेने पर आपको ज्यादा दस्तक दस्तावेजों की जरूरत नहीं पड़ती, काफी कम दस्तावेज मांगे जाते हैं बैंक और प्राइवेट कंपनियों द्वारा।
  • स्कूल खोलने के लिए लोन लेने पर लोन जल्दी प्रोसेस हो जाता है और आपको जल्दी लोन का पैसा आपके बैंक खाते में मिल जाता है।
  • स्कूल खोलने के लिए लोन लेने पर आपको बिना किसी गारंटी के लोन मिल जाता है।
  • स्कूल से संबंधित कोई भी कार्य के लिए आपको आसानी से लोन मिल जाता है जैसे नया प्रोजेक्टर लगवाना टेबल कुर्सी लेना स्कूल की मरम्मत कराना नई किताबें लेना आदि।
  • स्कूल खोलने के लिए लोन लेने पर आपको लाइन ऑफ क्रेडिट की फैसिलिटी मिलती है जिसका मतलब क्या होता है कि आप अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार लोन चुका सकते हैं।

स्कूल के लिए जो लोन लिया जाता है उस पर कितना ब्याज लगता है ?

  • रिलायंस मनी– 17 से 18 प्रतिशत
  • बजाज फिनसर्व – 18 प्रतिशत
  • बैंक ऑफ बड़ौदा – 16 से 18 प्रतिशत

स्कूल खोलने के लिए क्या क्या जरुरी है ?

  • आवेदक भारत का निवासी और नागरिक होना चाहिए ।
  • आवेदक की आयु 25 वर्ष से  65 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • स्कूल के दस्तावेज आवेदक के नाम पर ही होना चाहिए।
  • स्कूल की टैक्स रिटर्न की फाइल अपडेटेड  होनी चाहिए।
  • लोन लेने वाले आवेदक ने पहले से लोन नहीं ले रखा होना चाहिए।
  • स्कूल खोलने के लिए और स्कूल के सुधार कार्य के लिए लिया गया लोन स्कूल से सम्बंधित कामों में ही इस्तेमाल होना चाहिए।

स्कूल के लिए लोन लेने के लिए क्या दस्तावेज मांगे जाते हैं ?

  • बैंक स्टेटमेंट
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • बैंक खाते का डिटेल्स
  • KYC दस्तावेज़
  • बिज़नेस से सम्बंधित डॉक्यूमेंट्स
  • बिज़नेस प्रूफ

स्कूल खोलने के लिए लोन लेने की क्या प्रक्रिया है ?

  • पहले तो आप बैंको और अन्य कम्पनी की संपूर्ण जानकारी जानिए।
  • फिर आपको जो भी सबसे बेहतर लगे उसके ऑफिस विजिट कीजिए।
  • फिर वहां के कर्मचारी से संपर्क करें।
  • फिर वह आपको एक फॉर्म देगा उसे भरिए एयरबस संपूर्ण जानकारी भरिए।
  • फिर आपकी जानकारी वेरिफाई की जायेगी ।
  • जानकारी सही पाई जाने पर आपका लोन अप्रूव हो जायेगा ।
  • और फिर लोन की पूरी प्रक्रिया खत्म होने के बाद आपको लोन का पैसा मिल जायेगा ।

आज हमने स्कूल खोलने और स्कूल के सुधार कार्य के लिए लोन कैसे लिया जाता है इस विषय की जानकारी बताई। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो उसे आप अपने साथियों से ज़रूर शेयर कीजिएगा। और इसी तरह के पोस्ट और जानकारियों के साथ हम आते रहते हैं तो आपको कुछ भी जान ना हो तो आप यहां से जान सकते हैं । आपका हमें समय देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here